हालिया लेख/रिपोर्टें

Blogger WidgetsRecent Posts Widget for Blogger

8.6.09

नया अंक - मई 2009

मई दिवस अनुष्ठान नहीं, संकल्पों को फौलादी बनाने का दिन है! - एक बार फिर मुक्ति का परचम उठाओ! पूँजी की बर्बर सत्ता के ख़िलाफ फैसलाकुन लड़ाई की तैयारी में जुट जाओ!! - इक्कीसवीं सदी को मज़दूर क्रान्ति की मुकम्मल जीत की सदी बनाओ!!!

चुनावी नौटंकी का पटाक्षेप: अब सत्ता की कुत्ताघसीटी शुरू - जनता को सिर्फ यह तय करना है कि वह इसे कितना और बर्दाश्त करेगी!

दमन-उत्पीड़न से नहीं कुचला जा सकता मेट्रो कर्मचारियों का आन्दोलन

बच्चों के खून-पसीने से बन रही है बेंगलोर मेट्रो

बोलते आँकड़े चीखती सच्चाइयाँ


मई दिवस पर याद किया मज़दूरों की शहादत को


चेन्नई के सफाई कामगारों की हालत देशभर के सफाईकर्मियों का आईना है

प्रवासी मज़दूर : चिकित्सा सेवाओं के शरणार्थी - बुनियादी चिकित्सा सुविधाओं से भी वंचित रहते हैं

कार्ल मार्क्‍स के जन्मदिन (5 मई) के अवसर पर (फ्रेडरिक एंगेल्स का कार्ल मार्क्‍स पर लेख)

चीनी विशेषता वाले ''समाजवाद'' में मज़दूरों के स्वास्थ्य की दुर्गति

नताशा - एक महिला बोल्शेविक संगठनकर्ता (पाँचवीं किश्त)

मई 1886 का वह रक्तरंजित दिन जब मज़दूरों के बहते ख़ून से जन्मा लाल झण्डा

पाँच क्रान्तिकारी जनसंगठनों का साझा चुनावी भण्डाफोड़ अभियान - चुनावी राजनीति के मायाजाल से बाहर आओ! नये मज़दूर इन्कलाब की अलख जगाओ!!

देहाती मज़दूर यूनियन द्वारा 8 दिन की क्रमिक भूख हड़ताल सफल : बी डी ओ ने मांगी मांगें

1 कमेंट:

Kapil June 8, 2009 at 11:58 PM  

फिर से स्‍वागत है। वर्ड वेरीफिकेशन हटा लें।

बिगुल के बारे में

बिगुल पुस्तिकाएं
1. कम्युनिस्ट पार्टी का संगठन और उसका ढाँचा -- लेनिन

2. मकड़ा और मक्खी -- विल्हेल्म लीब्कनेख़्त

3. ट्रेडयूनियन काम के जनवादी तरीके -- सेर्गेई रोस्तोवस्की

4. मई दिवस का इतिहास -- अलेक्ज़ैण्डर ट्रैक्टनबर्ग

5. पेरिस कम्यून की अमर कहानी

6. बुझी नहीं है अक्टूबर क्रान्ति की मशाल

7. जंगलनामा : एक राजनीतिक समीक्षा -- डॉ. दर्शन खेड़ी

8. लाभकारी मूल्य, लागत मूल्य, मध्यम किसान और छोटे पैमाने के माल उत्पादन के बारे में मार्क्सवादी दृष्टिकोण : एक बहस

9. संशोधनवाद के बारे में

10. शिकागो के शहीद मज़दूर नेताओं की कहानी -- हावर्ड फास्ट

11. मज़दूर आन्दोलन में नयी शुरुआत के लिए

12. मज़दूर नायक, क्रान्तिकारी योद्धा

13. चोर, भ्रष् और विलासी नेताशाही

14. बोलते आंकड़े चीखती सच्चाइयां


  © Blogger templates Newspaper III by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP